Select Page

Alfaaz

Alfaaz

आज फिर कुछ शब्दों से मुलाकात हुई,
घेर लिया चंद अल्फाजों ने मुझे;
कह रहे थे कुछ धीरे से,
आज शब्द भी थे कुछ भीगे से;
रास्ता थोड़ा मुश्किल था,
आंधी थी, तूफान था,
वो रुके नहीं, ना डरे कहीं;
शायद जानते थे – मंजिल है उनकी यहीं कहीं।
जाने किसने भेजा था ?
ना जाने आज ही का दिन क्यों चुना था ?
जब थम जाता ये तूफान ,
और रुक सी जाती बारिश ,
तब भी सफ़र तय हो सकता था
तब भी मुलाकात हो जाती ;
पर ज़िंदगी कभी रुकती नहीं थमती नहीं 
इंतज़ार किसी का करती नहीं ।
शब्द भी कुछ यही थे –
ना रुक मुसाफिर रस्ते में ,
है धूप यहां है छांव भी ,
तूफान है तो है बारिश भी।
मंज़िल पर रख नज़र ,
हर मुश्किल जाएगी गुज़र ;
उम्मीद रख हौंसला रख,
रख हिम्मत से हर कदम भी,
ना टूट अभी ना थक कर बैठ,
मंजिल भी मिलेगी और मंजर भी ।। 

                       – Akanksha Singhal


Read more

This is How Much You Mean to Me

A wish remain just wished

Keep following for more poems.
“Your Thoughts, Our Words”

If you like this post, please like, share, rate and follow.

You can submit your entries too and we will post them here.


BOITD Directory

Translate

This error message is only visible to WordPress admins

Error: API requests are being delayed. New posts will not be retrieved for at least 5 minutes.

We are Social

Shower Some Likes

Love To Listen

Thank you for visiting our blog. Feel free to leave your heart prints.

Share Your Thoughts!

Subscribe To Our Newsletter

Join our mailing list to receive the latest news and updates from our team.

You have Successfully Subscribed!

Pin It on Pinterest

Share This

Share This

Share this post with your friends!